Main content
NewestEssendonWebsiteHeader.png

मैच में हारे लेकिन फिर भी जीते

एसेंडन का सीजन और मुश्किल हो गया है और उनके कोच जॉन वर्स्फोल्ड ने कहा "बाकी का सीजन बहुत मुश्किल होगा"। 

हर मैच एसेंडन तेज़ी से शुरू करती है, लेकिन पुरे मैच तक वो इंटेंसिटी मेन्टेन नहीं कर सकते। इस ही वझे से उनके लिए मैच जीतना थोड़ा मुश्किल हो रहा है। 

हर मैच में एसेंडन ने झलक दिखाया है, जिस झलक को देखने के लिए हम तरस गए थे। इस का सबूत, नार्थ मेलबोर्न के खिलाफ मैच। तीसरे क्वार्टर के ब्रेक के बाद एसेंडन ३५ पॉइंट्स से पीछे थी। जिस ज़ोर और जोश के साथ खेले उन्हों ने नार्थ मेलबोर्न को सिरक चार पॉइंट्स मारने दिया। अंत में एसेंडन सिर्फ १४ पॉइंट्स से हारे। लेकिन उन्हों ने दिखा दिया के कोई बी टीम हो आसानी से नहीं जाने देंगे।     

एक और सबूत, ग्रेटर वेस्टर्न सिडनी के खिलाफ जो मैच था, एसेंडन हाफ टाइम तक लीड कर रही थी, लेकिन अंत में २७ पॉइंट्स से हार गही। फनतसिा ने चार गोल मारे, लेकिन सर को बम्प लगने की वझे उसको बीस मिंट बेंच पे बैठना पड़ा और इस वझे से और ज़्यादा गोल नहीं मार सका। जाहराकिस, मेररट, जेम्स ग्विलत, अंथोनी और पैट्रिक एम्ब्रोस ने इस मैच में जान तोड़ खेले और ग्रेटर वेस्टर्न सिडनी के मुख्य गोल किकर को सिर्फ दो गोल मारने दिए।  

 मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में एसेंडन के कोच इस परफॉर्मेस से बहुत प्रसन थे लेकिन खेल के कुछ हिसूं में और इम्प्रूव कर सकते है। कोच को अच्छा लगा जैसे उनकी टीम हर मौके पर गेंद को अपने गोल से पास लेके आ रही है और यही ज़ोर आख़री क्वार्टर तक रहा। एसेंडन के पास दो मौके थे लीड हासिल करने के लिए, लेकिन जो दानीहर और मिच ब्राउन नहीं कर पाये। एसेंडन दो पॉइंट की दुरी पहुँच गए थे, लेकिे लीड हासिल नहीं कर पाये।  

हम देख सकते है के हर मैच के बाद इम्प्रूवमेंट है। राउंड ७ से लेके राउंड १३ तक, एसेंडन मैच एवरेज ५६ पॉइंट्स से हारी है। हारने की मार्जिन जितनी बे बड़ी हो, खिलाड़ियों की लर्निंग उसे बी ज़्यादा है।  

अगले हफ्ते एसेंडन का ब्रेक राउंड है। अच्छा मौका है, सभी खिलाड़ियों को आराम मिलेगा के व सीजन से सेकंड हाफ में और अच्छा खेले। 

और ख़ुशी की बात केल हुकर, ट्राविस कयलर, हीथ हॉकिंग, डेविड मएरस, दयसों हेप्पेल्ल और टॉम और टॉम बेललचम्बेर्स ने नई कॉन्ट्रैक्ट सिग्न किये और घोषणा की वो अगले साल एसेंडन के लिए खेलेंगे।  आने आने वाला कल, बहुत सुभान लग रहा है।  

लेखक: अमनदीप सिंह